पीपीएफ ब्याज दर 2024 | PPF Interest Rate in Hindi

PPF Interest Rate 2024: पीपीएफ सबसे लोकप्रिय लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट और सेविंग प्रोडक्ट है। क्योंकि यह भारत सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली एक बचत योजना है।

यदि आप पीपीएफ अकाउंट खोलने के बारे में सोच रहे है तो आपको यह जरुर पता होना चाहिए कि पीपीएफ स्कीम क्या है? और PPF Interest Rate कितना है।

पीपीएफ खाता वर्ष 1968 में शुरू किया गया था, जिसे लोगों को उनके पैसे को सुरक्षित रूप से दीर्घकालिक भविष्य के लिए बचाने में मदद करने के मुख्य उद्देश्य से शुरू किया गया था।

इस योजना को पूर्ण रूप से सेंट्रल गवर्नमेंट का समर्थन प्राप्त है, जिस वजह से पीपीएफ पर मिलने वाला रिटर्न गारंटीकृत और जोखिम-मुक्त है।

पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) में इन्वेस्टमेंट करके ग्राहक लाभदायक रिटर्न कमा सकते है। PPF खाते में निवेश के लिए न्यूनतम निवेश राशि केवल ₹500 और अधिकतम निवेश राशि ₹1,50,000 तक है।

इसके अलावा, यह EEE के अंतर्गत आता है, जिसका मतलब है कि आपके निवेश की गई राशि, पीपीएफ पर अर्जित होने वाला PPF Interest Rate और प्राप्त परिपक्वता राशि कर-मुक्त है।

पीपीएफ का न्यूनतम कार्यकाल 15 वर्ष तक है और इसके अतिरिक्त आप इसे 5 वर्ष के ब्लॉक में बढ़ा सकते है। भारतीय परिवारों के दीर्घकालिक भविष्य के लिए बचत को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार द्वारा पीपीएफ स्कीम की पेशकश की जाती है।

इस आर्टिकल में, हम जानेंगे कि PPF Interest Rate 2024 कितना है और पिछले कुछ वर्षों में पीपीएफ ब्याज दर का इतिहास कैसा था। इसके साथ ही पीपीएफ ब्याज दर की गणना कैसे करें इसके बारे में भी जानेंगे।

PPF Interest Rate 2023-24 

पीपीएफ ब्याज दर केंद्र सरकार के द्वारा तय की जाती है। यह ब्याज दर अब हर तीन महीने यानि त्रैमासिक (Quarterly) आधार पर तय की जाती है।

वित्त वर्ष 2023-24 की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) के लिए पीपीएफ खातों पर ब्याज दर 7.10% तय की गई है। यानि पीपीएफ स्कीम की Current PPF Interest Rate 2023-24, 7.10% प्रति वर्ष है।

पीपीएफ स्कीम की ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया गया है। पहले, जुलाई-सितंबर 2021 के लिए भी ब्याज दर 7.10% थी, फिलहाल (FY2023-24) के लिए ब्याज दर बिना किसी बदलाव के 7.10% रखी गई है। 

पीपीएफ ब्याज दर इतिहास – PPF Interest Rate History 

PPF Interest Rate History: पिछले कुछ वर्षों में परिवर्तित पीपीएफ अकाउंट स्कीम की ब्याज दरें नीचे दी गई है-

Financial YearPPF Interest Rate (in % per annum)
October-December 20237.10%
July-September 20237.10%
April-June 20237.10%
January-March 20237.10%
October-December 20227.10%
July-September 20227.10%
April-June 20227.10%
January-March 20227.10%
October-December 20217.10%
July-September 20217.10%
April-June 20217.10%
January-March 20217.10%
October-December 20207.10%
July-September 20207.10%
April-June 20207.10%
January-March 20207.10%
October-December 20197.90%
July-September 20197.90%
April-June 20198.00%
January-March 20198.00%

यह भी पढ़े: सिटी बैंक एफडी ब्याज दर कितना है?

How To Calculated PPF Interest Rate

पीपीएफ नियमों के अनुसार, ब्याज की गणना मासिक आधार पर की जाती है लेकिन इसे वित्तीय वर्ष के अंत में प्रत्येक 31 मार्च को खाते में जमा किया जाता है।

पीपीएफ में हर महीने की 1 तारीख से लेकर 5 तारीख से पहले पैसे डिपॉजिट करना चाहिए। अगर आप हर महीने की 5 तारीख से पहले ही अमाउंट डिपॉजिट करवा देंगे तो आपको उस अमाउंट पर इंटरेस्ट मिलेगा।

ब्याज दर की गणना आपके पीपीएफ खाते के 5वें दिन और महीने के अंत के बीच सबसे कम शेष राशि पर की जाती है। मान लीजिये कि अगर आपके पीपीएफ खाते में 1 अप्रैल तक 10,000 रुपये जमा थे और आप 7 अप्रैल को 5,000 रुपये जमा करते हैं, तो अप्रैल महीने में जमा की गई कुल राशि 15,000 रुपये होगा।

लेकिन आपको यहां ध्यान देना होगा कि 5 अप्रैल से लेकर महीने के अंत की Lowest Balance यानि रु 10,000 पर ही ब्याज की गणना की जाएगी न की रु 15,000 पर। लेकिन अगर आप 5 तारीख से पहले अमाउंट डिपॉजिट करते हैं, तो आपके ब्याज की कैलकुलेशन रु 15,000 पर की जाएगी। 

प्रत्येक महीने अर्जित होने वाले ब्याज को हर महीने आपके अकाउंट में क्रेडिट नहीं किया जाता है। आपके हर महीने जमा की गई राशि पर ब्याज अर्जित होता है लेकिन इसे हर महीने आपके अकाउंट में जमा नहीं किया जाता है।

1 अप्रैल से 31 मार्च तक आपके खाते में हर महीने मिलने वाले ब्याज को यानि अप्रैल से मार्च तक के ब्याज को जोड़कर वित्तीय वर्ष के अंत में 31 मार्च को एक साथ आपके खाते में जमा कर दिया जाता है।

पीपीएफ पर कर बचत लाभ – Tax Saving Benefit of PPF 

जैसा की हमने आपको लेख के शुरुआत में बताया था कि पब्लिक प्रोविडेंट फण्ड Exempt-Exempt-Exempt (EEE) श्रेणी के अंतर्गत आता हैं।

इसका मतलब यह है कि निवेश राशि, ब्याज और परिपक्वता राशि पर कर छूट की सुविधा मिलती है। पीपीएफ अकाउंट स्कीम ग्राहकों को कई कर लाभ प्रदान करती है।

कर मुक्त जमा – पीपीएफ खाते में राशि जमा करने की अवधि 15 साल है, जोकि एक लॉन्ग टर्म बचत योजना है। कोई भी भारतीय नागरिक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम ₹500 और अधिकतम ₹1.5 लाख की जमा राशि के साथ एक PPF खाता खोला सकते है। कोई भी खाताधारक ₹1.5 लाख तक की जमा राशि पर धारा 80C के तहत टैक्स लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

कर मुक्त रिटर्न – पीपीएफ पर इंटरेस्ट रेट प्रति वर्ष 7.1% है, जो चक्रवृद्धि रिटर्न के साथ सुरक्षित जोखिम प्रबंधन होता है। आयकर अधिनियम के तहत पीपीएफ में निवेश से निवेशक को अपने जमा राशि पर अर्जित ब्याज और संचित राशि में टैक्स छूट मिलती है। ब्याज की गणना मासिक आधार पर की जाती है लेकिन इंटरेस्ट को वित्तीय वर्ष के समापन पर खाते में जमा किया जाता है। 

कर मुक्त निकासी और परिपक्वता – सार्वजनिक भविष्य निधि की परिपक्वता अवधि 15 वर्ष है, इनकम टैक्स एक्ट सेक्शन 80C के तहत पीपीएफ खाते से पूर्ण या आंशिक निकासी पर कर छूट की सुविधा प्रदान की जाती है। 

मतलब आप परिपक्वता अवधि पर कर-मुक्त अपनी परिपक्व राशि की निकासी कर सकते। इसके अलावा 15 वर्ष की परिपक्वता अवधि के बाद आप 5 वर्ष के ब्लॉक के लिए अपने अकाउंट को बढ़ा सकते है। 

यह भी पढ़े: पीपीएफ खाते के नुकसान

Money Connextion

Hello friends, I am Vivek, Founder of Moneyconnextion.in. I love Blogging, writing, and sharing information about Banking & Finance.

Leave a Comment